You are currently viewing मैंने पूछा चाँद से | Maine pucha chand se lyrics

मैंने पूछा चाँद से | Maine pucha chand se lyrics

मैंने पूछा चाँद से | Maine pucha chand se lyrics :->फिल्म अब्दुल्ला (1980) से हिंदी में मैंने पुछा चांद से गीत के बोल मोहम्मद रफी द्वारा गाए गए हैं। मेरा पूंछा चांद से गीत आनंद बख्शी द्वारा लिखा गया है और संगीत राहुल देव बर्मन द्वारा रचित है। राज कपूर, संजय खान, जीनत अमान, डैनी अभिनीत।

Song Name:Maine Puchha Chand Se
Singer:Md. Rafi
Lyrics by:Anand Baskshi
MusicR.D Burman

मैंने पूछा चाँद से | Maine pucha chand se lyrics | maine poocha chand se lyrics |maine poocha chand se

mainne poochha chaand se ke dekha hai kaheen, mere yaar sa haseen
chaand ne kaha, chaandanee kee kasam, nahin, nahin, nahin |

mainne ye hijaab tera dhoondha, har jagah shavaab tera dhoondha
kaliyon se misaal teree poochhee, phoolon mein javaab tera dhoondha
mainne poochha baag se falak ho ya zameen, aisa phool hai kaheen
baag ne kaha, har kalee kee kasam, nahin, nahin, nahin |
mainne poochha chaand se…*1

chaal hai ke mauj kee ravaanee, zulf hai ke raat kee kahaanee
hoth hain ke aaeene kanval ke, aankh hai ke mayakadon kee raanee
mainne poochha jaam se, phalak ho ya zameen, aisee may bhee hai kaheen
jaam ne kaha, mayakashee kee kasam, nahin, nahin, nahin |
mainne poochha chaand se…*1

khoobasuratee jo toone paee, loot gayee Khuda kee bas khudaee
meer kee gazal kahoon tujhe main, ya kahoon khayaam hee rubaee
main jo poochhoon shaayaron se aisa dilanashee koee sher hai kaheen
shaayar kahe, shaayaree kee kasam, nahin, nahin, nahin |
mainne poochha chaand se..*2

Maine pucha chand se lyrics in Hindi

मैंने पूछा चाँद से के देखा है कहीं, मेरे यार सा हसीं
चाँद ने कहा, चाँदनी की कसम, नहीं, नहीं, नहीं

मैंने ये हिजाब तेरा ढूँढा, हर जगह शवाब तेरा ढूँढा
कलियों से मिसाल तेरी पूछी, फूलों में जवाब तेरा ढूँढा
मैंने पूछा बाग से फ़लक हो या ज़मीं, ऐसा फूल है कहीं
बाग ने कहा, हर कली की कसम, नहीं, नहीं, नहीं
मैंने पूछा चाँद से. *1

चाल है के मौज की रवानी, ज़ुल्फ़ है के रात की कहानी
होठ हैं के आईने कंवल के, आँख है के मयकदों की रानी
मैंने पूछा जाम से, फलक हो या ज़मीं, ऐसी मय भी है कहीं
जाम ने कहा, मयकशी की कसम, नहीं, नहीं, नहीं
मैंने पूछा चाँद से…*1

खूबसुरती जो तूने पाई, लूट गयी खुदा की बस खुदाई
मीर की ग़ज़ल कहूँ तुझे मैं, या कहूँ ख़याम ही रुबाई
मैं जो पूछूँ शायरों से ऐसा दिलनशी कोई शेर है कहीं
शायर कहे, शायरी की कसम, नहीं, नहीं, नहीं
मैंने पूछा चाँद से..*2

Read Also

Leave a Reply