You are currently viewing Saazish Lyrics| Bhuvan Bam |Rekha Bhardwaj

Saazish Lyrics| Bhuvan Bam |Rekha Bhardwaj

Saazish Lyrics| Bhuvan Bam |Rekha Bhardwaj :-> This song is sung by the

Song Name:Saazish
Singer:Rekha Bhardwaj, Bhuvan Bam
Composer:Omkar Tamhan
Lyrics by:Bhuvan Bam
song details

Saazish Lyrics| Bhuvan Bam |Rekha Bhardwaj

Saazish Lyrics in English Bhubam bam

Tuta Ek Tara
ghoom Gaya Hai badalon Ke Piche
Jaane Ki Ho Jaise usey jaldi |

tum bhi Kuchh Mang Lo
jo hai man mein tumhare
Jana Ho Na Jaaye Kahin
Tumhen deri|

Tuta Ek Tara
ghoom Gaya Hai badalon Ke Piche
Jaane Ki Ho Jaise usey jaldi |

tum bhi Kuchh Mang Lo
jo hai man mein tumhare
Jana Ho Na Jaaye Kahin
Tumhen deri|

Shayad Aisa Mauka
Mile na fir
Raha Jaaye Adhuri Khwaish
ho kya pata ho yah bhi Sitaron Ki
Humko milane ki koi Sajish|

Tu Sath Agar Hai
To kagaj Ki Kashti taiyar Jayegi
Tu Nahin to yah Kahani
tash ke patton se bikhar Jayegi
bazm mein lati jo ratein
agale hi Pal Mein Badal jaenge|

Raat Ke andhere Sanatan Mein
Chupke se konon mein Lori Ki Tara|

Teri Har Kahani pe
Nahin purani pe
Bharu han Mein han
Madam Madam utarta Chanda
aur De Gaya shahar|

Shayad Aisa Mauka
Mile Na Mile FIR
Reh Jaaye Adhuri Khwahish
ho kya pata ho ya siTaron
ki Humko milane ki koi Sajish|

Dekho yeh kaisi rut hain
Hum dono hi chup hain
Kise tha pata
Le aayenge yahan
Yeh raste sabhi

Phir kabhi tumse lenge waada
Kar dogi naa
Kise tha pata
Le aayenge yahan
Yeh raste sabhi

Dekho yeh kaisi rut hain
Hum dono hi chup hain
Kise tha pata
Le aayenge yahan
Yeh raste sabhi

Phir kabhi tumse lenge waada
Kar dogi naa
Kise tha pata
Le aayenge yahan
Yeh raste sabhi

saazish Lyrics in Hindi Bhubam bam

टूटा एक तारा
घूम गया है बदलों के पिच
जाने की हो जैसे उसे जल्दी |

तुम भी कुछ मांग लो
जो है मन में तुम्हारे
जाना हो ना जाए कहिं
तुमेन डेरी|

टूटा एक तारा
घूम गया है बदलों के पिच
जाने की हो जैसे उसे जल्दी |

तुम भी कुछ मांग लो
जो है मन में तुम्हारे
जाना हो ना जाए कहिं
तुमेन डेरी|

शायद ऐसा मौका
मिले ना फिरो
रहा जाए अधूरी ख्वाहिशो
हो क्या पता हो या भी सितारों की
हमको मिलाने की कोई सजीश|

तू साथ अगर है
कागज़ की कश्ती तैयर जाएगी के लिए
तू नहीं तो यह कहानी
तश के पत्नियों से बिखर जाएगी
बज में लाती जो रेटिन
अगले ही पल में बदल जाएंगे|

रात के अंधेरे सनातन में
चुपके से कोनों में लोरी की तारा|

तेरी हर कहानी पे
नहीं पुरानी पे
भरू हन में हां
मैडम मैडम उतरता चंदा
और दे गया शहर|

शायद ऐसा मौका
मिले ना मिले एफआईआर
रह जाए अधूरी ख्वाहिशो
हो क्या पता हो या सीटरों
की हमको मिलाने की कोई सजीश|

देखो ये कैसी रुत है
हम दोनो ही चुप हैं
किस था पता
ले आएंगे यहां
ये रस्ते सबी

फिर कभी तुमसे लेंगे वादा
कर कुत्ता ना
किस था पता
ले आएंगे यहां
ये रस्ते सबी

देखो ये कैसी रुत है
हम दोनो ही चुप हैं
किस था पता
ले आएंगे यहां
ये रस्ते सबी

फिर कभी तुमसे लेंगे वादा
कर कुत्ता ना
किस था पता
ले आएंगे यहां
ये रस्ते सबी

Read Also

who is the lyricist of the song Saazish ?

bhuvam bam

Leave a Reply